हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Gulzar - Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai | गुलज़ार - शाम से आँख में नमी सी है | Ghazal

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है 

दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है

वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर
इस की आदत भी आदमी सी है

कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी
एक तस्लीम लाज़मी सी है
Gulzar

----------------------------------------------------------
Shaam se aankh mein nami si hai
Aaj phir aapaki kami si hai

Dafn kar do hamein ke saans mile
Nabz kuch der se thami si hai

Waqt rahataa nahin kahin tik kar
Iski aadat bhi aadami si hai

Koyi rishtaa nahin rahaa phir bhi
Ek tasalim laazami si hai
Gulzar

Popular Posts

Gulzar - Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai | गुलज़ार - शाम से आँख में नमी सी है | Ghazal

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है 

दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है

वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर
इस की आदत भी आदमी सी है

कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी
एक तस्लीम लाज़मी सी है
Gulzar

----------------------------------------------------------
Shaam se aankh mein nami si hai
Aaj phir aapaki kami si hai

Dafn kar do hamein ke saans mile
Nabz kuch der se thami si hai

Waqt rahataa nahin kahin tik kar
Iski aadat bhi aadami si hai

Koyi rishtaa nahin rahaa phir bhi
Ek tasalim laazami si hai
Gulzar
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image