हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Gulzar - Tere Utaare Huye Din | गुलज़ार - तेरे उतारे हुए दिन | Poetry

तेरे उतारे हुए दिन...टंगे है लॉन में अब तक
ना वो पुराने हुए है ..ना उनका रंग उतरा
कही से कोई भी सिवन ..अभी नहीं उधड़ी
इलायची के बहुत पास रखे पत्थर पर
ज़रा सी जल्दी सरक आया करती है छाँव
ज़रा सा और घना हो गया है वो पौंधा
मैं थोडा थोडा वो गमला हटाता रहता हूँ
फकीरा अब भी वहीँ, मेरी कॉफ़ी देता है


गिलहरियों को बुलाकर खिलाता हूँ बिस्कुट
गिलहरियाँ मुझे शक की नज़र से देखती है
वो तेरे हांथों का मस जानती होगी

कभी - कभी जब उतरती है चील शाम की छत से
थकी - थकी सी ...ज़रा देर लॉन में रुककर
सफ़ेद और गुलाबी मसुम्बे के पोंधों में घुलने लगती है
कि जैसे बर्फ का टुकड़ा पिघलता जाये व्हिस्की में

मैं स्कार्फ दिन का गले से उतार देता हूँ
तेरे उतारे हुए दिन पहन के अब भी मैं
तेरी महक में कई रोज़ काट देता हूँ
तेरे उतारे हुए दिन ...
गुलज़ार

यह कविता सुनिए फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर की आवाज़ में :)


Tere Utare Huye Din, Tange Hai Lawn Mein Ab Tak
Na Woh Purane Huye Hai,..Na Unka Rang Utra
Kahin Se Koi Bhi Sivan..Abhi Nahi Udhdi

Ilaychi Ke Bahut Paas Rakhe Patthar Par
Zara Si Jaldi Sarak Aaya Karti Hai Chaanv
Zara Sa Aur Ghana Ho Gaya Hai Woh Podha
Main Thoda Thoda Woh Gamla Hatata Rahta Hoon
Fakeera Abhi Bhi Wahin, Meri Coffee Deta Hai

Gilhariyo Ko Bulakar Khilata Hoon Biscuit 
Gihariya Mujhe Shaq Ki Nazar Se Dekhti Hai 
Woh Tere Haatho Ka Mas Jaanti Hogi

Kabhi Kabhi Jab Utarti Hai Cheel Shaam Ki Chatt Se
Thaki Thaki Si ..Zara Der Lawn Mein Ruk Kar
Safed Aur Gulabi Masumbe Ke Podho Mein Ghulne Lagti Hai 
Ki Jaise Barf Ka Tukdaa Pighalta Jaye Whisky Mein

Main Scarf Din Ka Gale Se Utaar Deta Hoon
Tere Utare Huye Din Pehan Ke Ab Bhi Main
Teri Mehak Mein Kai Roz Kaat Deta Hoon

Tere Utare Huye Din...

- Gulzar

Popular Posts

Gulzar - Tere Utaare Huye Din | गुलज़ार - तेरे उतारे हुए दिन | Poetry

तेरे उतारे हुए दिन...टंगे है लॉन में अब तक
ना वो पुराने हुए है ..ना उनका रंग उतरा
कही से कोई भी सिवन ..अभी नहीं उधड़ी
इलायची के बहुत पास रखे पत्थर पर
ज़रा सी जल्दी सरक आया करती है छाँव
ज़रा सा और घना हो गया है वो पौंधा
मैं थोडा थोडा वो गमला हटाता रहता हूँ
फकीरा अब भी वहीँ, मेरी कॉफ़ी देता है


गिलहरियों को बुलाकर खिलाता हूँ बिस्कुट
गिलहरियाँ मुझे शक की नज़र से देखती है
वो तेरे हांथों का मस जानती होगी

कभी - कभी जब उतरती है चील शाम की छत से
थकी - थकी सी ...ज़रा देर लॉन में रुककर
सफ़ेद और गुलाबी मसुम्बे के पोंधों में घुलने लगती है
कि जैसे बर्फ का टुकड़ा पिघलता जाये व्हिस्की में

मैं स्कार्फ दिन का गले से उतार देता हूँ
तेरे उतारे हुए दिन पहन के अब भी मैं
तेरी महक में कई रोज़ काट देता हूँ
तेरे उतारे हुए दिन ...
गुलज़ार

यह कविता सुनिए फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर की आवाज़ में :)


Tere Utare Huye Din, Tange Hai Lawn Mein Ab Tak
Na Woh Purane Huye Hai,..Na Unka Rang Utra
Kahin Se Koi Bhi Sivan..Abhi Nahi Udhdi

Ilaychi Ke Bahut Paas Rakhe Patthar Par
Zara Si Jaldi Sarak Aaya Karti Hai Chaanv
Zara Sa Aur Ghana Ho Gaya Hai Woh Podha
Main Thoda Thoda Woh Gamla Hatata Rahta Hoon
Fakeera Abhi Bhi Wahin, Meri Coffee Deta Hai

Gilhariyo Ko Bulakar Khilata Hoon Biscuit 
Gihariya Mujhe Shaq Ki Nazar Se Dekhti Hai 
Woh Tere Haatho Ka Mas Jaanti Hogi

Kabhi Kabhi Jab Utarti Hai Cheel Shaam Ki Chatt Se
Thaki Thaki Si ..Zara Der Lawn Mein Ruk Kar
Safed Aur Gulabi Masumbe Ke Podho Mein Ghulne Lagti Hai 
Ki Jaise Barf Ka Tukdaa Pighalta Jaye Whisky Mein

Main Scarf Din Ka Gale Se Utaar Deta Hoon
Tere Utare Huye Din Pehan Ke Ab Bhi Main
Teri Mehak Mein Kai Roz Kaat Deta Hoon

Tere Utare Huye Din...

- Gulzar
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image