हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Rajinder Nath (Rehbar) : Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise | तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे

तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे,
प्यार मे डूबे हुए ख़त मैं जलाता कैसे,
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे,

जिनको दुनिया की निगाहों से छुपाये रखा,
जिनको इक उम्र कलेजे से लगाए रखा,
दीन जिनको जिन्हे ईमान बनाये रखा
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे, 

जिनका हर लफ्ज़ मुझे याद था पानी की तरह,
याद थे मुझको जो पैगाम-ऐ-जुबानी की तरह,
मुझ को प्यारे थे जो अनमोल निशानी की तरह,
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे, 

तूने दुनिया की निगाहों से जो बचाकर लिखे,
सालाहा-साल मेरे नाम बराबर लिखे,
कभी दिन में तो कभी रात में उठकर लिखे,


तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे,
प्यार मे डूबे हुए ख़त मैं जलाता कैसे,
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे,

तेरे ख़त आज मैं गंगा में बहा आया हूँ,
आग बहते हुए पानी में लगा आया हूँ

-----------------------------------------------------------------
Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise
Pyaar Mein Dube Huye Khat Main Jalata Kaise
Tere Haathon Ke Likhe Khat Main Jalata Kaise


Tune Duniya Ki Nigaahon Se Jo Bachkar Likhe

Jinko Ek Umar Kaleje Se Lagaye Rakha
Deen Jinko Jinhe Imaan Banaye Rakha
Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise


Jinaka Har Labj Mujhe Yaad Tha Paani Ki Tarah

Yaad The Mujhko Jo Paigam –E-Jubaani Ki Tarah
Mujhako Pyaare The Jo Anmol Nishani Ke Tarah
Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalatakaise


Tune Duniya Ki Nigahon Se Jo Bachkar Likhe

Saal Ha Saal Mere Naam Barabar Likhe
Kabhi Din Mein Toh Kabhi Raat Ko Uthkar Likhe
Tere Khushbu Mein Base Khat Main Jalata Kaise


 Pyaar Mein Dube Huye Khat Main Jalatakaise

 Tere Haathon Ke Likhe Khat Main Jalatakaise
 Tere Khat Aaj Main Ganga Mein Baha Aaya Hoon - (2)
 Aag Behate Huye Paani Mein Laga Aaya Hoon

Popular Posts

Rajinder Nath (Rehbar) : Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise | तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे

तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे,
प्यार मे डूबे हुए ख़त मैं जलाता कैसे,
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे,

जिनको दुनिया की निगाहों से छुपाये रखा,
जिनको इक उम्र कलेजे से लगाए रखा,
दीन जिनको जिन्हे ईमान बनाये रखा
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे, 

जिनका हर लफ्ज़ मुझे याद था पानी की तरह,
याद थे मुझको जो पैगाम-ऐ-जुबानी की तरह,
मुझ को प्यारे थे जो अनमोल निशानी की तरह,
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे, 

तूने दुनिया की निगाहों से जो बचाकर लिखे,
सालाहा-साल मेरे नाम बराबर लिखे,
कभी दिन में तो कभी रात में उठकर लिखे,


तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे,
प्यार मे डूबे हुए ख़त मैं जलाता कैसे,
तेरे हाथों के लिखे ख़त मैं जलाता कैसे,

तेरे ख़त आज मैं गंगा में बहा आया हूँ,
आग बहते हुए पानी में लगा आया हूँ

-----------------------------------------------------------------
Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise
Pyaar Mein Dube Huye Khat Main Jalata Kaise
Tere Haathon Ke Likhe Khat Main Jalata Kaise


Tune Duniya Ki Nigaahon Se Jo Bachkar Likhe

Jinko Ek Umar Kaleje Se Lagaye Rakha
Deen Jinko Jinhe Imaan Banaye Rakha
Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise


Jinaka Har Labj Mujhe Yaad Tha Paani Ki Tarah

Yaad The Mujhko Jo Paigam –E-Jubaani Ki Tarah
Mujhako Pyaare The Jo Anmol Nishani Ke Tarah
Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalatakaise


Tune Duniya Ki Nigahon Se Jo Bachkar Likhe

Saal Ha Saal Mere Naam Barabar Likhe
Kabhi Din Mein Toh Kabhi Raat Ko Uthkar Likhe
Tere Khushbu Mein Base Khat Main Jalata Kaise


 Pyaar Mein Dube Huye Khat Main Jalatakaise

 Tere Haathon Ke Likhe Khat Main Jalatakaise
 Tere Khat Aaj Main Ganga Mein Baha Aaya Hoon - (2)
 Aag Behate Huye Paani Mein Laga Aaya Hoon
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image