हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Saba Afghani : Gulshan ki faqat phoolon se nahin | सबा अफ़गानी - गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं | Ghazal


गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं काटों से भी जीनत होती है,
जीने के लिए इस दुनिया मे गम की भी ज़रूरत होती है,

ऐ वाइज़-ऐ-नादान करता है तू एक क़यामत का चर्चा,
यहाँ रोज़ निगाहें मिलती हैं यहाँ रोज़ क़यामत होती है,

वो पुर्सिश-ऐ-गम को आये हैं कुछ कह न सकूं चुप रह न सकूं,
खामोश रहूँ तो मुश्किल है कह दू तो शिकायत होती है,

करना ही पड़ेगा जब्त-ऐ-आलम पीने ही पड़ेंगे ये आंसू,
फरियाद-ओ-फुगान से ऐ नादाँ तौहीन-ऐ-मोहब्बत होती है,

जो आके रुके दामन पे सदा वो अश्क नहीं है पानी है,
जो अश्क न छलके आंखों से उस अश्क की कीमत होती है

.....................................................................................
Gulshan ki faqat phoolon se nahin kaaton se bhi zeenat hoti hai,
jeene ke liye is duniya mein gham ki bhi zaroorat hoti hai.

Ae waaiz-e-naadan karta hai tu ek qayamat ka charcha,
yahan roz nigahen milti hain yahan roz qayamat hoti hai.

Wo pursish-e-gham ko ayae hain kuch keh na sakoon chup reh na sakoon,
khaamosh rahoon to mushkil hai keh doon to shikaayat hoti hai.

Karna hi padega jabt-e-alam peene hi padenge ye aansoo,
fariyaad-o-fugaan se aey naadaan tauheen-e-mohabbat hoti hai.

Jo aake ruke daaman pe ‘Saba’ wo ashq nahin hai paani hai,
jo ashq na chhalke aankhon se us ashq ki keemat hoti hai.

Popular Posts

Saba Afghani : Gulshan ki faqat phoolon se nahin | सबा अफ़गानी - गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं | Ghazal


गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं काटों से भी जीनत होती है,
जीने के लिए इस दुनिया मे गम की भी ज़रूरत होती है,

ऐ वाइज़-ऐ-नादान करता है तू एक क़यामत का चर्चा,
यहाँ रोज़ निगाहें मिलती हैं यहाँ रोज़ क़यामत होती है,

वो पुर्सिश-ऐ-गम को आये हैं कुछ कह न सकूं चुप रह न सकूं,
खामोश रहूँ तो मुश्किल है कह दू तो शिकायत होती है,

करना ही पड़ेगा जब्त-ऐ-आलम पीने ही पड़ेंगे ये आंसू,
फरियाद-ओ-फुगान से ऐ नादाँ तौहीन-ऐ-मोहब्बत होती है,

जो आके रुके दामन पे सदा वो अश्क नहीं है पानी है,
जो अश्क न छलके आंखों से उस अश्क की कीमत होती है

.....................................................................................
Gulshan ki faqat phoolon se nahin kaaton se bhi zeenat hoti hai,
jeene ke liye is duniya mein gham ki bhi zaroorat hoti hai.

Ae waaiz-e-naadan karta hai tu ek qayamat ka charcha,
yahan roz nigahen milti hain yahan roz qayamat hoti hai.

Wo pursish-e-gham ko ayae hain kuch keh na sakoon chup reh na sakoon,
khaamosh rahoon to mushkil hai keh doon to shikaayat hoti hai.

Karna hi padega jabt-e-alam peene hi padenge ye aansoo,
fariyaad-o-fugaan se aey naadaan tauheen-e-mohabbat hoti hai.

Jo aake ruke daaman pe ‘Saba’ wo ashq nahin hai paani hai,
jo ashq na chhalke aankhon se us ashq ki keemat hoti hai.

SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image