हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Kaifi Azmi - Haath Aakar Laga Gaya Koi | कैफ़ी आज़मी - हाथ आकर लगा गया कोई | Ghazal

हाथ आकर लगा गया, गया कोई ।
मेरा छप्पर उठा गया कोई ।

लग गया इक मशीन में मैं भी
शहर में ले के आ गया कोई ।

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी
इश्तिहार इक लगा गया कोई ।

ऐसी मंहगाई है कि चेहरा भी
बेच के अपना खा गया कोई ।

अब कुछ अरमाँ हैं न कुछ सपने
सब कबूतर उड़ा गया कोई ।

यह सदी धूप को तरसती है
जैसे सूरज को खा गया कोई ।

वो गए जब से ऐसा लगता है
छोटा-मोटा ख़ुदा गया कोई ।

मेरा बचपन भी साथ ले आया
गाँव से जब भी आ गया कोई ।

कैफ़ी आज़मी 

***************************
IN ROMAN TRANSCRIPT

Haath Aakar Laga Gaya Koi,
Mera Chappar Utha Gaya Koi

Laga Gaya Ek Machine Mein Main Bhi
Sehar Mein Le Kea A Gaya Koi

Main Khada Tha Ki Peeth Par Meri
Ishtihaar Ek Laga Gaya Koi

Aisi Mehgaayi Hai Ki Chehra Bhi
Bech Ke Apna Kha Gaya Koi

Ab Kuch Armaan Hai Na Kuch Sapne
Sab Kabootar Udda Gaya Koi

Yah Sadi Dhoop Ko Tarasti Hai
Jaise Sooraj Ko Kha Gaya Koi

Woh Gaye Jab Se Aisa Lagta Hai
Chota-Mota Khuda Gaya Koi

Mera Bachpan Bhi Sath Le Aaya
Gaaon Se Jab Bhi Aa Gaya Koi 

- Kaifi Azmi


Popular Posts

Blog Archive

Kaifi Azmi - Haath Aakar Laga Gaya Koi | कैफ़ी आज़मी - हाथ आकर लगा गया कोई | Ghazal

हाथ आकर लगा गया, गया कोई ।
मेरा छप्पर उठा गया कोई ।

लग गया इक मशीन में मैं भी
शहर में ले के आ गया कोई ।

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी
इश्तिहार इक लगा गया कोई ।

ऐसी मंहगाई है कि चेहरा भी
बेच के अपना खा गया कोई ।

अब कुछ अरमाँ हैं न कुछ सपने
सब कबूतर उड़ा गया कोई ।

यह सदी धूप को तरसती है
जैसे सूरज को खा गया कोई ।

वो गए जब से ऐसा लगता है
छोटा-मोटा ख़ुदा गया कोई ।

मेरा बचपन भी साथ ले आया
गाँव से जब भी आ गया कोई ।

कैफ़ी आज़मी 

***************************
IN ROMAN TRANSCRIPT

Haath Aakar Laga Gaya Koi,
Mera Chappar Utha Gaya Koi

Laga Gaya Ek Machine Mein Main Bhi
Sehar Mein Le Kea A Gaya Koi

Main Khada Tha Ki Peeth Par Meri
Ishtihaar Ek Laga Gaya Koi

Aisi Mehgaayi Hai Ki Chehra Bhi
Bech Ke Apna Kha Gaya Koi

Ab Kuch Armaan Hai Na Kuch Sapne
Sab Kabootar Udda Gaya Koi

Yah Sadi Dhoop Ko Tarasti Hai
Jaise Sooraj Ko Kha Gaya Koi

Woh Gaye Jab Se Aisa Lagta Hai
Chota-Mota Khuda Gaya Koi

Mera Bachpan Bhi Sath Le Aaya
Gaaon Se Jab Bhi Aa Gaya Koi 

- Kaifi Azmi


SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image