हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Bashir Badr - Parakhna Mat, Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta | बशीर बद्र - परखना मत, परखने में कोई अपना नहीं रहता | Ghazal

परखना मत, परखने में कोई अपना नहीं रहता
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहां दरिया समन्दर में मिले, दरिया नहीं रहता

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है
हमारे शहर में भी अब कोई हमसा नहीं रहता

मोहब्बत एक खुशबू है, हमेशा साथ रहती है
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता

- बशीर बद्र 

*************************************
IN ROMAN TRANSCRIPT

Parakhna Mat, Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta
Kisi Bhi Aaine Mein Der Tak Chehra Nahi Rahta

Bade Logo Se Milne Mein Hamesha Faasla Rakhna
Jahan Dariya Samandar Mein Mile, Dariya Nahi Rahta

Hazaron Sher Mere So Gaye, Kagaz Ki Kabron Mein
Ajab Maa Hoon Koi Baccha Mera Zinda Nahi Rahta

Tumhara Sehar To Bilkul Naye Andaz Wala Hai 
Hamare Sehar Mein Bhi Ab Koi Hum Sa Nahi Rahta

Mohabbat Ek Khusboo Hai, Hamesha Sath Rahti Hai 
Koi Insaan Tanhayi Mein Bhi Kabhi Tanha Nahi Rahta

Koi Baadal Hare Mausam Ka Phir Elaan Karta Hai 
Khizaa Ke Baag Mein Jab Ek Bhi Patta Nahi Rahta

- Bashir Badr

आशा है आपको रचना पसंद आई होगी, यदि हमारे ब्लॉग के लिए या इस रचना के सन्दर्भ में आपके कुछ विचार है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताये।  धन्यवाद !

Popular Posts

Bashir Badr - Parakhna Mat, Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta | बशीर बद्र - परखना मत, परखने में कोई अपना नहीं रहता | Ghazal

परखना मत, परखने में कोई अपना नहीं रहता
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहां दरिया समन्दर में मिले, दरिया नहीं रहता

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है
हमारे शहर में भी अब कोई हमसा नहीं रहता

मोहब्बत एक खुशबू है, हमेशा साथ रहती है
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता

- बशीर बद्र 

*************************************
IN ROMAN TRANSCRIPT

Parakhna Mat, Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta
Kisi Bhi Aaine Mein Der Tak Chehra Nahi Rahta

Bade Logo Se Milne Mein Hamesha Faasla Rakhna
Jahan Dariya Samandar Mein Mile, Dariya Nahi Rahta

Hazaron Sher Mere So Gaye, Kagaz Ki Kabron Mein
Ajab Maa Hoon Koi Baccha Mera Zinda Nahi Rahta

Tumhara Sehar To Bilkul Naye Andaz Wala Hai 
Hamare Sehar Mein Bhi Ab Koi Hum Sa Nahi Rahta

Mohabbat Ek Khusboo Hai, Hamesha Sath Rahti Hai 
Koi Insaan Tanhayi Mein Bhi Kabhi Tanha Nahi Rahta

Koi Baadal Hare Mausam Ka Phir Elaan Karta Hai 
Khizaa Ke Baag Mein Jab Ek Bhi Patta Nahi Rahta

- Bashir Badr

आशा है आपको रचना पसंद आई होगी, यदि हमारे ब्लॉग के लिए या इस रचना के सन्दर्भ में आपके कुछ विचार है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताये।  धन्यवाद !
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image