हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Kunwar Bechain - Yeh Lafz Aaine Hai Mat Inhe Ucchal Ke Chal | कुँअर बेचैन - ये लफ्ज़ आईने हैं मत इन्हें उछाल के चल | Ghazal

ये लफ्ज़ आईने हैं मत इन्हें उछाल के चल
अदब की राह मिली है तो देखभाल के चल

कहे जो तुझसे उसे सुन, अमल भी कर उस पर
ग़ज़ल की बात है उसको न ऐसे टाल के चल

सभी के काम में आएंगे वक्त पड़ने पर
तू अपने सारे तजुर्बे ग़ज़ल में ढाल के चल

मिली है ज़िन्दगी तुझको इसी ही मकसद से
संभाल खुद को भी औरों को भी संभाल के चल

कि उसके दर पे बिना मांगे सब ही मिलता है
चला है रब कि तरफ तो बिना सवाल के चल

अगर ये पांव में होते तो चल भी सकता था
ये शूल दिल में चुभे हैं इन्हें निकाल के चल

तुझे भी चाह उजाले कि है, मुझे भी 'कुंअर'
बुझे चिराग कहीं हों तो उनको बाल के चल

कुँअर बेचैन 

*************************************
IN ROMAN TRANSCRIPT

Yeh Lafz Aaine Hai Mat Inhe Ucchal Ke Chal
Adab Ki Raah Mila Hai To Dekhbhaal Ke Chal

Kahe Jo Tujhse Use Sun, Amal Bhi Kar Us Par
Ghazal Ki Baat Hai Usko Na Aise Taal Ke Chal

Sabhi Ke Kaam Mein Aayege Waqt Padne Par
Tu Apne Sare Tazurbe Ghazal Mein Dhaal Ke Chal

Mili Hai Zindgi Tujhko Isi Hi Maqsad Se
Sambhaal Khud Ko Bhi Auro Ko Bhi Sambhal Ke Chal

Ki Uske Dar Pe Bina Maange Sab Hi Milta Hia 
Chala Hai Rab Ki Taraf To Bina Sawaal Ke Chal

Agar Yeh Paanv Mein Hote To Chal Bhi Sakta Tha
Yeh Shool Dil Mein Chubhe Hai Inhe Nikaal Ke Chal

Tujhe Bhi Chaah Ujale Ki Hai, Mujhe Bhi 'Kunwar'
Bujhe Chiraag Kahin Ho To Unko Baal Ke Chal

Kunwar Bechain


आशा है आपको रचना पसंद आई होगी, यदि हमारे ब्लॉग के लिए या इस रचना के सन्दर्भ में आपके कुछ विचार है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताये।  धन्यवाद !

Popular Posts

Kunwar Bechain - Yeh Lafz Aaine Hai Mat Inhe Ucchal Ke Chal | कुँअर बेचैन - ये लफ्ज़ आईने हैं मत इन्हें उछाल के चल | Ghazal

ये लफ्ज़ आईने हैं मत इन्हें उछाल के चल
अदब की राह मिली है तो देखभाल के चल

कहे जो तुझसे उसे सुन, अमल भी कर उस पर
ग़ज़ल की बात है उसको न ऐसे टाल के चल

सभी के काम में आएंगे वक्त पड़ने पर
तू अपने सारे तजुर्बे ग़ज़ल में ढाल के चल

मिली है ज़िन्दगी तुझको इसी ही मकसद से
संभाल खुद को भी औरों को भी संभाल के चल

कि उसके दर पे बिना मांगे सब ही मिलता है
चला है रब कि तरफ तो बिना सवाल के चल

अगर ये पांव में होते तो चल भी सकता था
ये शूल दिल में चुभे हैं इन्हें निकाल के चल

तुझे भी चाह उजाले कि है, मुझे भी 'कुंअर'
बुझे चिराग कहीं हों तो उनको बाल के चल

कुँअर बेचैन 

*************************************
IN ROMAN TRANSCRIPT

Yeh Lafz Aaine Hai Mat Inhe Ucchal Ke Chal
Adab Ki Raah Mila Hai To Dekhbhaal Ke Chal

Kahe Jo Tujhse Use Sun, Amal Bhi Kar Us Par
Ghazal Ki Baat Hai Usko Na Aise Taal Ke Chal

Sabhi Ke Kaam Mein Aayege Waqt Padne Par
Tu Apne Sare Tazurbe Ghazal Mein Dhaal Ke Chal

Mili Hai Zindgi Tujhko Isi Hi Maqsad Se
Sambhaal Khud Ko Bhi Auro Ko Bhi Sambhal Ke Chal

Ki Uske Dar Pe Bina Maange Sab Hi Milta Hia 
Chala Hai Rab Ki Taraf To Bina Sawaal Ke Chal

Agar Yeh Paanv Mein Hote To Chal Bhi Sakta Tha
Yeh Shool Dil Mein Chubhe Hai Inhe Nikaal Ke Chal

Tujhe Bhi Chaah Ujale Ki Hai, Mujhe Bhi 'Kunwar'
Bujhe Chiraag Kahin Ho To Unko Baal Ke Chal

Kunwar Bechain


आशा है आपको रचना पसंद आई होगी, यदि हमारे ब्लॉग के लिए या इस रचना के सन्दर्भ में आपके कुछ विचार है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताये।  धन्यवाद !
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image